प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना – जनऔषधि केंद्र कैसे खोलें

प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना – केंद्रीय सरकार द्वारा देश के बेरोजगार युवाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए प्रधामंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना शुरू की है। यदि आप मेडिकल खोलना चाहते है तो यह योजना आपके लिए लाभदायक हो सकती है। केंद्रीय सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत आप अपना जनऔषधि केंद्र खोल सकते है और 30,000 रुपये प्रति माह कम सकते है। योजना के अनुसार आप जनऔषधि केंद्र कहीं भी खोल सकते है चाहे वह शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीण। यदि आप भी अपना जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते है और इस लेख को पूरा पढ़े।

मुख्य उद्देश्य

सरकार द्वारा इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य देश में रह रहे गरीब लोगो को सस्ते दामो पर दवाइयां उपलब्ध करना है। योजना के अनुसार अभी तक पुरे देश में 20,000 जनऔषधि केंद्र खोले जा चुके है।

आप जनऔषधि केंद्र को कैसे खोल सकते हैं

यदि आप भी अपना जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते है तो आपको सरकार द्वारा तय की गई इन तीन श्रेणियों के अनुसार अपनी पात्रता या योग्यता जाँच कर इसके लिए आवेदन कर सकते है। आप इसके लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।

  • नियम के अनुसार पहली श्रेणी में बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर या पंजीकृत चिकित्सा व्यवसायी जनऔषधि केंद्र के लिए आवेदन कर सकते है।
  • दूसरी श्रेणी में ट्रस्ट, एनजीओ, निजी अस्पताल, समाज और स्वयं सहायता समूह भी इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • तीसरी श्रेणी में राज्य सरकार द्वारा नामांकित एजेंसी जनऔषधि केंद्र खोल सकती है।

जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची

व्यक्तिगत

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. यदि आवेदक विकलांग है तो विकलांगता प्रमाण पत्र (केवल विकलांग आवेदकों के लिए)
  4. फार्मासिस्ट पंजीकरण प्रमाणपत्र

संस्थान / गैर सरकारी संगठन / चैरिटेबल संस्थान / अस्पताल के लिए

  1. आधार कार्ड
  2. पैन कार्ड
  3. निगमन का प्रमाण पत्र
  4. पंजीकरण प्रमाणपत्र
  5. फार्मासिस्ट पंजीकरण प्रमाणपत्र

सरकार / सरकारी नामांकित एजेंसी के लिए

  1. विभाग का विवरण जिसने सहायक दस्तावेजों / स्वीकृति आदेश के साथ स्थान आवंटित किया है।
  2. पैन कार्ड
  3. आधार कार्ड
  4. फार्मासिस्ट पंजीकरण प्रमाणपत्र

जनऔषधि केंद्र के लिए कितनी जगह की आवश्यकता है।

इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको ऑनलाइन या ऑफलाइन आवेदन करना होगा जिसके तहत सरकार द्वारा 2.5 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी और 650 से अधिक दवाएं और बिक्री के लिए 100 से अधिक उपकरण प्रदान किए जाएंगे। इसका मद्लब है की आपको किसी प्रकार का निवेश नहीं करना है। योजना के अनुसर केवल आपके पास कम से कम 120 वर्ग फुट की जगह होनी चाहिए जहाँ आप अपना जनऔषधि केंद्र खोलना चाहते है।

यह योजना किस प्रकार काम करती है।

यदि आप व्यक्तिगत तौर पर जनऔषधि केंद्र खोल रहे हो तो आपको शुरुआत में कम से कम 1 लाख रुपये तक की दवाई खरीदनी होगी। इसके बाद सरकार द्वारा इस प्रक्रिया का मासिक आधार पर निरक्षण किया जाएगा।

योजना के अनुसार बुनियादी तौर पर सरकार द्वारा रैक,डेस्क आदि की व्यस्था करने के लिए 1 लाख रुपये तक की राशि प्रदान की जाएगी जिसे अगले छह माह के भीतर वापस करना होगा। इसके अलावा कंप्यूटर सिस्टम की व्यस्था करने के लिए 50,000 रूपये की राशि भी प्रदान करेगी।

इस योजना से आप आमदनी कैसे कर सकते हैं।

योजना के अनुसार यदि आप एक माह के भीतर 1 लाख रुपये से अधिक दवाइयों की बिक्री करते है तो आपको सरकार द्वारा 10,000 रूपये तक की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। यह प्रोत्साहन राशि तब प्रदान की जाएगी जब तक ऋण की राशि पूरी न हो जाए। इस योजना के अंतर्गत एक दुकानदार को लगभग प्रति माह 10 प्रतिशत की आमदनी होगी।

आप प्रति माह 30,000 रुपये तक कैसे कमाएंगे

इस योजना का सबसे बड़ा लाभ यह है की यदि आप प्रति माह अपने केंद्र से 1 लाख रूपये तक की दवाएं बेचते हैं तो आपको 20 प्रतिशत कमीशन मिलेगा और इसके अलावा 10 प्रतिशत प्रोत्साहन राशि भी मिलेगी जिसे मिलकर आप लगभग प्रति माह 30,000 रूपये कम सकते है।

कुछ महत्वपूर्ण लिंक का उपयोग करें

आधिकारिक वेबसाइट के लिए :- http://janaushadhi.gov.in/index.aspx

ऑफ़लाइन आवेदन पत्र भेजने के लिए आधिकारिक पता

ब्योरा ऑफ़ फार्मा पीएसयू भारत, आईडीपीएल कॉरपोरेट ऑफिस कॉम्प्लेक्स, पुरानी दिल्ली-गुड़गांव रोड, दुंडहेरा, गुड़गांव -122016 (हरियाणा)।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *